ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

शनिवार, 3 मार्च 2012

                                    रंग ऐसा लगाने का वादा करो 


चढ़ सके ना कभी जिस पर नफ़रत का रंग ,रंग ऐसा लगाने का वादा करो,
भर  के  हर साँस  में  प्रेम के रंग को ,हर  गिले  भूल  जाने  का  वादा  करो !


                                                 रास्ते  जब  भी  काँटे  उगाने  लगें , पाँव  जब   भी  तेरे  डगमगाने लगें,
                                                 टूट  जाएँ  सभी  सब्र  की  डोरियाँ , हिम्मतों   के  दीये  थरथराने  लगें ,
                                                 तब समूचे समन्दर   को एक साँस में ,अंजुरी  में उठाने का वादा करो !


 कौन  सा  रंग  किस  रंग  को  है मिला ,किस चमन  में  गुलाबों  का गुलशन खिला,
किसके रंगों को नोचा गया इस कदर,किसकी आँखों को रिमझिम का सावन मिला,
 पंख   नोचे   गए    तितलियों  के  जहाँ ,  वो  चमन   फिर  बसाने  का  वादा  करो !


                                          बात  रंगों  की  है  रंग वालों  की  है, अनकहे  अनबुझे  कुछ सवालों की है !
                                          जैसी तकदीर उनके गुलालों की है,वैसी किस्मत कहाँ  अपने गालों की है !
                                          हम  हज़ारों  क़दम  दौड़  कर आयेंगे ,पाँव तुम  भी उठाने  का  वादा करो !


लाल  रंगों  में  लिपटी  हुई  होलियाँ , खेलते  खेलते  शाम  ढल जाएगी,
फिर कोई भी सवेरा ना होगा कभी, बर्फ  की  ये कहानी पिघल जाएगी !
वक्त का हर दिया हो गया है धुआं,कुछ तो जलने जलाने का वादा करो !


                                         आसमाँ  से गिराई   गयीं  बिजलियाँ, हर  गली  में  लगाईं  गयी  बोलियाँ ,
                                         रंग परछाईयों में सिमटता गया,फिर भी ठहरी थीं विश्वास की तितलियाँ !
                                         एक  उम्मीद  काफ़ी  है मुस्कान को  ,यूँ  ही  हँसने  हँसाने  का वादा  करो !


                                                                                                                                    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ