ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

शनिवार, 1 जनवरी 2011

हो गया ग़म पुराना नए साल में

        नूतन वर्ष २०११ की अनंत हार्दिक शुभकानाएँ

                 हो  गया   ग़म  पुराना  नए  साल  में  
                 छोड़ो   सुनना   सुनाना  नए साल  में


                 सीख  लो  मुस्कराने  की  प्यारी अदा
                 ना   चलेगा   बहाना   नए   साल   में


                 जिनकी चौखट से राहें कभी मुड़ गयीं
                 उनके  घर  पर  भी जाना नए साल में


                 लाज़  धनिया की बेटी की महफूज़  है
                 छोड़ो   बातें   बनाना   नए   साल  में


                 जा   के   दुश्वारियों  से  कहो  ढूंढ़  लें 
                 और   कोई   ठिकाना   नए  साल  में


                 नोच  कर  खाने  वालों दरिंदों से तुम
                 देश  अपना   बचाना   नए  साल  में


                 चाल  बदली  हुई   है ज़माने  की अब
                 तुम  बदल  दो  ज़माना नए साल  में 

                                                  नव वर्ष मंगलमय हो ! 
                                                         -ज्ञानचंद  मर्मज्ञ  

सोमवार, 27 दिसंबर 2010

की है सागर ने लाशों की चोरी

आतंकवाद की अगली कड़ी लिखते लिखते  26 दिसंबर २००४  का वह दिन याद आ गया जिसकी स्मृति मात्र से  ही हृदय कांप उठता  है और आँखें नम हो जाती हैं ! इसी दिन प्रकृति के  प्रकोप ने `सुनामी` बन कर मौत का वीभत्स खेल खेला था और पागल समुद्र की लहरों ने न जाने कितने लोगों  को जिन्दा निगल लिया !
आज उन्हीं को श्रधांजलि  स्वरुप यह कविता प्रस्तुत है!


                                              की है सागर ने लाशों की चोरी


          जो समंदर ने लिख दी लहर पर ,
          हादसों    की  कहानी   है  पानी !
          रेत   पर  आज  तक बन न पाई,
          एक   ऐसी   निशानी   है  पानी !

                                    प्यास की प्यास  को भी यकीं है,
                                    उसके  विश्वास का जल है पानी!
                                    कर   लिए   बंद  जो  बोतलों  में,
                                    समझे  पानी  तो केवल है पानी!

          इन  तरंगों  की धुन में नहाकर,
          जो लिपटती थी पैरों में आकर !
          वो लहर बन गयी कैसे नागिन ,
          लौट जाती  थी जो गुदगुदाकर !

                                   किसने चंदा की शीतल किरन में,
                                   आग    विकराल   ऐसी    लगाई!
                                   जिसको  पीते  रहे  उम्र  भर  हम,
                                   प्यास  उसकी समझ में  न आई!

          कल तो सपने सँजोती थीं लहरें,
          चांदनी   को  पिरोती  थीं  लहरें!
          आज  लाशों  की  बारिश हुई है,
          वरना  सावन में रोती थीं लहरें!

                                      क्यूँ   हैं  ख़ामोश लहरें निगोरी,
                                      लील  कर  आज  चंदा  चकोरी!
                                      लोग  पागल  हो  चिल्ला रहे हैं,
                                      की है सागर ने लाशों की चोरी !

          साँस `कल` हो गई एक  पल में,
          उम्र  पल  हो  गई  एक  पल  में!
          देख  कर खूं  का प्यासा समंदर,
          प्यास `जल`हो गई एक पल में!

                                      हो  के विकराल पानी की लहरें,
                                      बन  गयीं काल पानी की लहरें!
                                      जब  समंदर  लहू  में  घुला तो,
                                      हो  गयीं  लाल  पानी की लहरें!

         डूब  जाता  था  सागर  जहाँ पर,
         वो   किनारे   बहे   जा   रहे   हैं!
         सूनी  आँखों  का  आकाश  देखो,
         चाँद    तारे    बहे   जा   रहे   हैं!

                                   जो चुराती थीं साजन के मन को,
                                   वो   चुनर- चूड़ियाँ   बह  गयी हैं !
                                   पालनों    में    समंदर   बहा   है,
                                   माँ  के  संग लोरियाँ  बह गयी हैं!

          कुछ  निगाहें   बही  हैं  लहर  में,
          कुछ   निगाहों  के  सपने बहे हैं!
          रेत  के   हर  निशाँ  बह  गए  हैं,
          बहने  वालों  में   अपने  बहे   हैं!

                                      छू  लिया चाँद  फिर  भी करेंगे,
                                      कब  तलक बेबसी की गुलामी!
                                      काश  कुदरत  के `मर्मज्ञ`होते,
                                      फिर  ना होती ये लहरें सुनामी!
     
                                                            -ज्ञानचंद मर्मज्ञ