ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

मंगलवार, 18 अक्तूबर 2011

है काफ़ी महज़ एक इंसान होना

                                                                  
आज कई दिनों के अंतराल के  बाद आप के बीच एक ग़ज़ल लेकर उपस्थित हुआ हूँ आशा है आप पूर्व की भांति अपनी सारगर्भित टिप्पणियों से अनुग्रहित कर  मेरा उत्साहवर्धन करेंगे !

                                                     ग़ज़ल



                               न हीरा, न  मोती, न  चाँदी,  न सोना 
                               है  काफ़ी  महज़   एक  इंसान   होना 

                               ये  जीवन  भी  तो एक रेखा गणित है 
                               कभी  गोल  है  तो  कभी  है  तिकोना 

                               न   महुआ  उगेगा   ना  बरगद  उगेंगे 
                               कभी  गांव  में  तुम शहर को  न बोना 

                               जो  अम्नो अमाँ   की  वफ़ा चाहते हो
                               लहू   के   निशाँ  को  लहू  से  न धोना

                               न छीनो ये चौखट ना छीनो ये आँगन
                               मकानों  को  दे  दो मकानों  का कोना 


                               उसे   सब  पता  है   वही  जानता   है 
                               किसे कब है हँसना किसे कब है रोना 

                                                                  -ज्ञानचंद मर्मज्ञ