ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

मंगलवार, 24 मई 2011

मौत



ज़िन्दगी की भूलभुलैया में हम ऐसे खो जाते हैं कि कभी कभी ज़िन्दगी की सबसे बड़ी सच्चाई "मौत" को ही भुला बैठते हैं ! कभी सोच कर देखिये अगर मौत ज़िन्दगी के साथ नहीं होती तो क्या होता ! क्या ज़िन्दगी के मायने ऐसे ही होते जैसे आज हैं ! गंतव्य विहीन सफ़र का क्या कोई औचित्य होता? तो क्या जीवन की सार्थकता मृत्यु से प्रेरित होती है ?
आज सोचा जो अटल है क्यों न उसके बारे में कुछ लिखा जाय !
आपके सारगर्भित विचार सादर आमंत्रित है !

                                      मौत                                                                                                     

               चंद  यादों  का  कल ज़िन्दगी है, 
               धड़कनों  की नक़ल ज़िन्दगी है!
               ज़िन्दगी   को   कहाँ  ढूढते   हो,
               मौत  की हमशकल ज़िन्दगी है!

                                   हम न ठहरेंगे अब इस ज़मीं पर,
                                   प्राण  आकाश  का  हो  चुका है !
                                   दर्द  तो  यूँ  ही  ज़िन्दा खड़ा  है ,
                                   क़त्ल अहसास  का  हो चुका है! 

               हम  बुझायेंगे साँसे सम्भल के ,
               प्राण  फिर  भी बहेगा उबल के !
               आ  रही  नींद  तो  हल्के  हल्के 
               कौन जाने चिपक  जाएँ पलकें !

                                      एक  मुर्दा  कफ़न  से  चुराकर,
                                      आईने    में  उतारा  गया   है !
                                      मृत्यु  का  हाय  श्रृंगार  कैसा ,
                                      झील  में  चाँद  मारा गया  है !

                                           ........ अगले अंकों में जारी  

                                                          -ज्ञानचंद मर्मज्ञ