ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

रविवार, 16 जनवरी 2011

हर जनाज़ा यहाँ बेकफ़न है

आतंकवाद की पीड़ा को मुखरित करने में जो सहयोग आप सभी पाठकों एवं शुभचिंतकों का मिला ,उसके लिए आभार प्रकट करना शब्दों के बस में नहीं है ! हृदय से धन्यवाद व्यक्त करते हुए आज अंतिम कड़ी लेकर आप सभी के सम्मुख फिर उपस्थित हूँ ,
आप सभी के अमूल्य विचारों की प्रतीक्षा के साथ !




        आतंकवाद: अंतिम भाग 
                                                                                                                                                                                                                         


         जब से आकाश उनका हुआ है,
         पंख   नीलाम  करने  लगे   हैं!
         हादसों की ख़बर सुन के बच्चे,
         पैदा   होने   से  डरने  लगे  हैं!


                                      दूध  माँ  ने  पिलाया तो होगा,
                                      थपकियाँ दे  सुलाया तो होगा!
                                      गिर  पड़े  जब  खड़े  होते होते,
                                      दौड़  उसने  उठाया  तो  होगा!


         वो  समाई  है  इन धड़कनों में,
         जिसकी  साँसें  पिए जा रहे हो!
         नोच   कर  दूध  के  स्तनों को,
         क़त्ल  माँ  का किये जा रहे हो!


                                 कुछ  यहाँ कुछ वहां तन-बदन है,
                                 लाश पर हर पलक बिन नयन है!
                                 लाल   धरती  पर  रोया  गगन है,
                                 हर   जनाज़ा   यहाँ   बेकफ़न  है!


         चीख़  उभरी  है फिर वादियों में,
         ख़ून  फिर  से बहा बन के पानी!
         लाख  ख़ूनी  कलम आज़मा लो,
         लिख  न  पाओगे  कोई कहानी!

                                  कल यही हादसे फिर पिघल कर,
                                  तेरी   आँखों   के   सैलाब   होंगे !
                                  जब   तेरे  स्वप्न  भी  चूर  होंगे,
                                  तुम  भी  रोने  को   बेताब  होगे !


         साँस   आधी  है  धड़कन  अधूरी,
         फिर भी जीने की कोशिश है पूरी!
         रात  गुज़रेगी  इस  'रात' की  भी,
         बस   दीया   है   जलाना  ज़रूरी! 


                                                    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ