ज्ञानचंद मर्मज्ञ

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
Bangalore, Karnataka, India
मैंने अपने को हमेशा देश और समाज के दर्द से जुड़ा पाया. व्यवस्था के इस बाज़ार में मजबूरियों का मोल-भाव करते कई बार उन चेहरों को देखा, जिन्हें पहचान कर मेरा विश्वास तिल-तिल कर मरता रहा. जो मैं ने अपने आसपास देखा वही दूर तक फैला दिखा. शोषण, अत्याचार, अव्यवस्था, सामजिक व नैतिक मूल्यों का पतन, धोखा और हवस.... इन्हीं संवेदनाओं ने मेरे 'कवि' को जन्म दिया और फिर प्रस्फुटित हुईं वो कवितायें,जिन्हें मैं मुक्त कंठ से जी भर गा सकता था....... !
!! श्री गणेशाय नमः !!

" शब्द साधक मंच " पर आपका स्वागत है
मेरी प्रथम काव्य कृति : मिट्टी की पलकें
रौशनी की कलम से अँधेरा न लिख
रात को रात लिख यूँ सवेरा न लिख
पढ़ चुके नफरतों के कई फलसफे
इन किताबों में अब तेरा मेरा न लिख

- ज्ञान चंद मर्मज्ञ

_____________________

सोमवार, 27 दिसंबर 2010

की है सागर ने लाशों की चोरी

आतंकवाद की अगली कड़ी लिखते लिखते  26 दिसंबर २००४  का वह दिन याद आ गया जिसकी स्मृति मात्र से  ही हृदय कांप उठता  है और आँखें नम हो जाती हैं ! इसी दिन प्रकृति के  प्रकोप ने `सुनामी` बन कर मौत का वीभत्स खेल खेला था और पागल समुद्र की लहरों ने न जाने कितने लोगों  को जिन्दा निगल लिया !
आज उन्हीं को श्रधांजलि  स्वरुप यह कविता प्रस्तुत है!


                                              की है सागर ने लाशों की चोरी


          जो समंदर ने लिख दी लहर पर ,
          हादसों    की  कहानी   है  पानी !
          रेत   पर  आज  तक बन न पाई,
          एक   ऐसी   निशानी   है  पानी !

                                    प्यास की प्यास  को भी यकीं है,
                                    उसके  विश्वास का जल है पानी!
                                    कर   लिए   बंद  जो  बोतलों  में,
                                    समझे  पानी  तो केवल है पानी!

          इन  तरंगों  की धुन में नहाकर,
          जो लिपटती थी पैरों में आकर !
          वो लहर बन गयी कैसे नागिन ,
          लौट जाती  थी जो गुदगुदाकर !

                                   किसने चंदा की शीतल किरन में,
                                   आग    विकराल   ऐसी    लगाई!
                                   जिसको  पीते  रहे  उम्र  भर  हम,
                                   प्यास  उसकी समझ में  न आई!

          कल तो सपने सँजोती थीं लहरें,
          चांदनी   को  पिरोती  थीं  लहरें!
          आज  लाशों  की  बारिश हुई है,
          वरना  सावन में रोती थीं लहरें!

                                      क्यूँ   हैं  ख़ामोश लहरें निगोरी,
                                      लील  कर  आज  चंदा  चकोरी!
                                      लोग  पागल  हो  चिल्ला रहे हैं,
                                      की है सागर ने लाशों की चोरी !

          साँस `कल` हो गई एक  पल में,
          उम्र  पल  हो  गई  एक  पल  में!
          देख  कर खूं  का प्यासा समंदर,
          प्यास `जल`हो गई एक पल में!

                                      हो  के विकराल पानी की लहरें,
                                      बन  गयीं काल पानी की लहरें!
                                      जब  समंदर  लहू  में  घुला तो,
                                      हो  गयीं  लाल  पानी की लहरें!

         डूब  जाता  था  सागर  जहाँ पर,
         वो   किनारे   बहे   जा   रहे   हैं!
         सूनी  आँखों  का  आकाश  देखो,
         चाँद    तारे    बहे   जा   रहे   हैं!

                                   जो चुराती थीं साजन के मन को,
                                   वो   चुनर- चूड़ियाँ   बह  गयी हैं !
                                   पालनों    में    समंदर   बहा   है,
                                   माँ  के  संग लोरियाँ  बह गयी हैं!

          कुछ  निगाहें   बही  हैं  लहर  में,
          कुछ   निगाहों  के  सपने बहे हैं!
          रेत  के   हर  निशाँ  बह  गए  हैं,
          बहने  वालों  में   अपने  बहे   हैं!

                                      छू  लिया चाँद  फिर  भी करेंगे,
                                      कब  तलक बेबसी की गुलामी!
                                      काश  कुदरत  के `मर्मज्ञ`होते,
                                      फिर  ना होती ये लहरें सुनामी!
     
                                                            -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

रविवार, 19 दिसंबर 2010

आतंकवाद :भाग- ४

                             आतंकवाद :भाग- ४


      गिर  पड़े आसमाँ  न ज़मीं पर,
      अब  सुनाता  हूँ मैं  वो कहानी!
      सुन  सकोगे  जो मासूम चीख़ें,
      सूख  जाएगा आँखों  का पानी!

                                      वक़्त भी सोच कर गड़  गया है,
                                      हो   गए    कैसे   इंसां   कसाई!
                                      देख   कर  नन्हें  फूलों से बच्चे,
                                      इनको  थोड़ी  दया भी  न आई!

      छोटी  छोटी  अंगुलियाँ  न  देखो,
      हादसों   की  सिसकियाँ  बड़ी हैं!
      माँ के आँचल में छुपने को आतुर,
      नन्हें   बच्चों  की  लाशें  पड़ी  हैं!

                                  अब   हँसेंगे   खिलौनें  कभी  ना,
                                  अब न  बन्दर चलेगा ठुमक कर! 
                                  माँ  ने  सपनें  सँजो कर बुने  जो,
                                  रोयेगा   सर्दियों   में   वो  स्वेटर!

      मौत  के  बाद  भी कुछ भरम था,
      होंठ  उसका  अभी  भी नरम था!
      था   कलेजे  का   मासूम  टुकड़ा,
      लाश  ठंडी थी  पर खूं  गरम  था!

                                          ........ अगले अंकों में जारी
                                                                        -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

सोमवार, 13 दिसंबर 2010

आतंकवाद:भाग-३

            
             आतंकवाद:भाग-३


          कितने    सिंदूर   धोये   गए  हैं,
          किस   कदर  हाय  रोये  गए  हैं!
          तोड़   कर  हाथ  के  कंगनों  को,
          दर्द    के   खेत   बोये   गए   हैं!

                            लाल टुकड़ों में खुशियों का तन है,
                            कब  से  बेचैन  मेंहदी  का मन है!
                            कैसी    बारात   कैसा   लगन   है,
                            आधी  दुल्हन है  आधा सजन  है!

          वो   गुलाबी   अधर  तो   उठाना,
          जिसमें  पायल  हो  वो पैर लाना!
          ढूंढ़  लाना  पिया  की   वो  आँखें,
          एक    पूरी   दुल्हन   है   बनाना!

                              कैसी  तड़पन  की लम्बी घड़ी है,
                              साँस   छोटी  है, आहें   बड़ी   हैं!
                              ग़म  के हाथों  में लम्बी छड़ी है,
                              चार  मौसम  सभी  पतझड़ी  हैं!
    
                                   ...........अगले अंकों में जारी
                                               -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

रविवार, 5 दिसंबर 2010

आतंकवाद: भाग-२



आतंकवाद की यह कविता उन निर्दोष लोगों को समर्पित है जिनके सपनें आतंकवाद की आग में जल कर भस्म हो गए,जिन्हें असमय अपनों को छोड़ कर जाना पड़ा , मगर उनके परिजन आज भी उनकी यादों को सीने से लगाये पागलों की तरह जीने के लिए मज़बूर  हैं !

                            आतंकवाद: भाग-२


         दूर   बिखरे  हैं  बागों   के  टुकड़े ,
         गीत    गाते   हैं  रागों  के  टुकड़े!
         राख    के   ढेर    में    ढूढ़ते    हैं ,
         अपने  अपने  चिरागों के  टुकड़े!

                              कल तो आँगन में किलकारियाँ थीं,
                              फूल    थे    और   फुलवारियाँ   थीं!
                              साँस   ले  ली  मगर   ये   न  जाना,
                              इन    हवाओं   में   चिंगारियाँ   थीं!

         ये    वही   ढेर    है  विस्तरों    का,
         ख़्वाब   जिन  पर  संवारे  गए थे!
         ख़ून   के  दाग़   यूँ   कह   रहे   हैं,
         नींद   में    लोग   मारे   गए   थे!

                               कल   इन्हें  तो पता  भी  नहीं था ,
                               इतनी     बेदर्द    तक़दीर    होगी!
                               वक़्त   की   कील  पर  झूलने को,
                               आज   इनकी  भी  तस्वीर  होगी! 

                                   ................अगले अंकों में जारी 

                                                    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ  

सोमवार, 29 नवंबर 2010

आतंकवाद

आज अपनी काव्यकृति "मिट्टी की पलकें" से आतंकवाद पर कुछ मुक्तक लेकर आपके बीच उपस्थित हुआ हूँ ! आशा है पूर्व की भांति आप अपने स्नेह-पूरित विचारों से अनुग्रहीत करेंगे !

                                           आतंकवाद

          तेज   नाख़ून  से   वार  करते,
          ख़ून  से ये बहुत प्यार  करते !
          पास इनके कफ़न लेके  जाना,
          ये तो लाशों का व्यापार करते !

                         चीख़   से ये शहर भर गया है,
                         कोई  बहरा  इन्हें कर गया है !
                         क़त्ल  इतने  हुए  हैं  यहाँ पर,
                         दर्द  भी  दर्द  से  मर गया है !

          मौत का साज़ो-सामान लेकर ,
          ख़ौफ गलियों में रहने लगा है!
          देखकर  इतना  बेदर्द   मंज़र,
          ख़ून  आँखों  से बहने लगा है !

                         उस गली से कभी न गुज़रना,
                         लोग  ज़िंदा  जलाये  गए  हैं !
                         बच गईं  चंद पत्थर की आँखें ,
                         जिनमें  सावन छुपाये गए हैं !

          कोई   पहचान  इनकी  बताओ ,
          नोचकर  अंग   खाए   गए   हैं !
          हाथ   के  ज़ख्म  में चूड़ियों के,
          चंद   टुकड़े   भी   पाए  गए  हैं !

                        .......... अगले अंकों में जारी  
                                             -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
                 

रविवार, 21 नवंबर 2010

सब्र का आकाश पाया एक टूटी पाँख में!

कविता ,गीत और ग़ज़ल के बाद आज मै आप सबके बीच कुछ मुक्तक लेकर उपस्थित हुआ हूँ ! आशा है आप पूर्व की भाँति अपनी सार्थक टिप्पणियों द्वारा मुझे अनुग्रहीत करेंगे !  
                  
                                                    मुक्तक 
 १.
    ये अंधेरों का शहर है  दीप आ तुझको  जला दूँ ,
    धुन्ध सा वीरान घर है दीप आ तुझको जला दूँ ,
    कौन  से  तूफ़ान  की  क़ीमत चुकानी  है  तुझे ,
    रोशनी तो बेख़बर है  दीप आ तुझको  जला दूँ !

२.
     हर सुबह को साँझ  में ढलते  हुए देखा गया है ,
     पत्थरों  को  बर्फ  सा  गलते हुए देखा गया है ,
     राम  तो वनवास जाते अब नहीं दिखते कभी ,
     पर सिया को आज भी जलते हुए देखा गया है!

३.
         टूट कर जो गिर गये, वो तारे कहाँ मिलते हैं,
      नदी  की  उम्र  तक  किनारे  कहाँ  मिलते हैं,
      ढूढने  वालों  बस  एक  बात  याद  रख लेना,
      वक्त   की  राख  में  अंगारे  कहाँ  मिलते  हैं!

४.
         रोशनी   दिये  में  पाई  आग  पाई  राख  में,
      बादलों की साजिशें सावन ने पाई आँख  में ,
      उम्र भर उड़ता रहा,  उड़ता रहा,  उड़ता रहा,
      सब्र  का  आकाश  पाया  एक  टूटी  पाँख में!




                                                                                                             -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

शनिवार, 13 नवंबर 2010

ग़ज़ल

                    कुछ बढ़ाई गई  कुछ घटाई गई


            कुछ  बढ़ाई  गई  कुछ  घटाई  गई
            ज़िन्दगी  उम्र  भर आज़माई  गई 

                        फेंक  दो  ऐ  किताबें  अंधेरों  की  हैं 
                        जिल्द उजली किरन की चढ़ाई गई 

            जब भी आँखों से आँसू बहे जान लो 
            मुस्कराने  की  क़ीमत  चुकाई  गई  

                        घेर ली  रावनों  ने   अकेली  सिया
                        और  रेखा लखन  की  मिटाई गई 

            टांग देते थे जिन खूटीयों  पे गगन 
            उनकी  दीवारे हिम्मत गिराई  गई

                        झील  में  डूबता  चाँद  देखा  गया 
                        और तारों  पे  तोहमत लगाईं गई 

            झूठ की एक गवाही को सच मानकर 
            हर  सज़ा  पे  सज़ा  फिर  सुनाई गई

                        यूँ तो चिंगारियों  में कोई दम न था 
                        पर अदा बिजलियों की  दिखाई गई 

             राम  की  मुश्किलों  में  हमेशा यहाँ 
             बेगुनाही   की   सीता   जलाई   गई 

                        देश  की हर गली में भटकती मिली 
                        वो दुल्हन जो तिरंगे  को ब्याही गई 

                                                -ज्ञानचन्द मर्मज्ञ  

रविवार, 7 नवंबर 2010

प्रयोग


यूँ तो दुनियाँ में रोज नए नए प्रयोग किये जाते हैं जिसमें कुछ तो सफल होते हैं और कुछ असफल, मगर आज मैं जिस `प्रयोग`की बात करने जा रहा हूँ वह वर्षों पहले किया गया और पूरी तरह सफल हुआ !
लोकतंत्र की सफलता के लिए शायद ऐसे प्रयोग जरुरी हों तभी तो यह आज भी जारी है.........
हमेशा की तरह आपके सारगर्भित विचारों की बेसब्री से प्रतीक्षा रहेगी !


प्रयोग
एक फूल की पंखुड़ियों को
पीड़ा के नुकीले चाकू से काटकर
व्यवस्था की परखनली में लिया गया ,
फिर उसे
सपनों की आंच पर खूब भूना गया !
पंखुड़ियों  का रंग जब सफेद पड़ गया,
तो-
परखनली में       
बूंद भर
शुद्ध वादों के रस को डाल दिया गया !
पंखुड़ियाँ
स्पर्श पाते ही पिघल गयीं,
पूरी तरह तरल हो बहने लगीं,
फिर तभी उन्हें 
आशाओं के एक बड़े पात्र में उड़ेल कर 
सुनहरे भविष्य से ढक दिया गया !
अगली सुबह ,
जब खोला गया 
तो -
इन खोखले प्रयोगवादी
वैज्ञानिकों की 
खुशी का कोई ठिकाना न रहा !
क्यों कि -       
' प्रयोग ' 
पूरी तरह सफल हुआ था ,
वह ' फूल '
उस पात्र में जम कर 
पत्थर हो गया था ,
जिसे -
फूलों की ही तरह तराश कर 
हर घर में सजाया गया ,
और 
इस तरह
भारत का 
एक ' आम-आदमी ' बनाया गया !
                            - ज्ञानचंद मर्मज्ञ

गुरुवार, 4 नवंबर 2010

दीपावली


ज्योति पर्व दीपावली के शुभ अवसर पर  आप सभी  को हार्दिक मंगलकामनाएं ! 

दीपावली की जगमगाहट में हम जीवन की खुशियाँ  ढूढने की कोशिश करतें हैं ! हर घर के दीये की रोशनी एक हो सकती है मगर उसकी कहानी अलग अलग ! दीये तो मुखौटे नहीं पहनते मगर उसे जलाने  वाला इन्सान  एक नहीं कई कई मुखौटे अवश्य पहनता है!

आज इन्ही दीयों के माध्यम से अपने आस पास की सच्चाई की कुछ तस्वीरें उकेरने की कोशिश कर रहा हूँ !
आप सब के आशीर्वाद  एवं विचारों की बेसब्री से प्रतीक्षा  रहेगी !     






                      लगता है  दीवाली है  यारो 

      हर  दीप  सवाली है  यारो
      लगता है  दीवाली है  यारो

           दिल  काला है तो होने दो
           चेहरे  पर लाली  है  यारो

      वो फूलों का कातिल निकला 
      जो बाग़ का  माली है यारो  

           बेटे  के  हाथों फिर  धोखा
           माँ  भोली - भाली है यारो 

      जो  आधे ज्ञान  पे इतराए 
      वो  आधा खाली  है  यारो

           इंसानों  की इस बस्ती  में
           हर  चेहरा जाली  है  यारो

      गेहूँ की  रोटी  खाने  को  
      सोने की  थाली  है  यारो

           उनके  भाषण से  देश चले 
           बजने  को  ताली है  यारो

      वो जंगल काट  कहें  देखो
      कितनी  हरियाली है  यारो

           कुछ दिन भी है धुंधला धुंधला 
           कुछ रात भी  काली  है यारो 

            

                  -ज्ञानचंद मर्मज्ञ 

सोमवार, 1 नवंबर 2010

मेरे पिछले पोस्ट की कविताओं को जो स्नेह और आशीर्वाद आप सब ने  दिया उससे उत्साहित होकर आज मैं  आप सबके बीच अपनी एक ग़ज़ल लेकर प्रस्तुत  हुआ हूँ ! कृपया अपने  विचारों से मुझे अनुग्रहीत करने की कृपा करें !

 
सिसकियाँ उभरती हैं
 
सरहदों पर ये कैसी  सिसकियाँ उभरती  हैं
बस धुआं उभरता है, हिचकियाँ उभरती  हैं

जाने किस तसव्वुर की बात कर रहें हैं आप
ख़्वाब  में  गरीबों  के   रोटियाँ  उभरती   हैं

जब  से  दरवाज़ों  पर  हादसों  का  है पहरा
दस्तकें  उभरती  हैं, थपकियाँ  उभरती   हैं

लगता  है  ये चिंगारी  अब  ठहर न पायेगी
रह रह के ख़यालों में  बिज़लियाँ उभरती हैं 

इस शहर ने फूलों के  गुलशनों  को  रौदा है 
डर  डर  के मुंडेरों पर तितलियाँ  उभरती हैं

तूने  जो  जलाये थे  इस  वतन की राहों  में
उन  दीयों  के  गावों  में आंधियाँ उभरती हैं

इस नदी के वो क़िस्से  कुछ अजीब हैं यारों
सबके  डूब  जाने पर  कश्तियाँ  उभरती  हैं

चाहे   जितना  चाहो  आईना  बदल   डालो
इस  महल  के शीशे में  बस्तियाँ उभरती हैं

                                 - ज्ञानचंद मर्मज्ञ 

सोमवार, 25 अक्तूबर 2010

रातों की स्याही है ...

रातों की स्याही है,धूप का निखार है,
यार यही जीवन है, रोना   बेकार  है!

सुनसान  गलियों में सहमी हैं सांसे ,
दंगों  के  खेतों   में  उगती  हैं  लाशें,
सांसों का मोल नहीं कैसा व्यापार है!
यार  यही  जीवन है, रोना  बेकार है!

जब भी  लिखी हादसों  की  कहानी,
लुटती रही यूँ  ही खुशियों की  रानी,
माटी की दुल्हन है,सोलह श्रृंगार है!
यार  यही जीवन है, रोना बेकार  है!

आहट  है  चिंगारी, दस्तक हैं  शोले,
कैसे   उठें    और   दरवाज़ा    खोलें,
बूढ़ी है अभिलाषा, आशा  बीमार  है!
यार  यही  जीवन है, रोना बेकार  है!

फिर  से  वही  शोर, सहमी  ज़मी  है,
गिद्धों  की  बस्ती में  खूं  की कमी है,
कितना घिनौना ज़माने का प्यार  है!
यार यही  जीवन  है, रोना  बेकार  है!

खुशियों की गौरैया,दहशत का आंगन,
बोझिल सी  आँखों  में डूबा है  जीवन,
आँखों की जीत हुई,सावन की हार  है!
यार  यही  जीवन  है,  रोना  बेकार है!

इन  पत्थरों  का  पिघलना  है  बाकी,
कुछ  कोशिशों का उछलना  है बाकी,
बौना   है   आदमी,  ऊँची  दीवार   है, 
यार  यही  जीवन है, रोना  बेकार  है!
                           -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
 

मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

ये शहर अब सो रहा है!  


कोई सन्नाटा तो लाओ, ये शहर अब सो रहा है!
हादसों को मत जगाओ, ये शहर अब सो रहा है !

भागने   की  होड़  है  सबको  उलझना  है  यहाँ ,
रस्ते   वीरान   हैं  फिर   भी  पहुंचना   है   वहां ,
पांव  धीरे  से  उठाओ  ये  शहर अब सो रहा है !

कौन  हैं  वो  लोग  जिनके  हाँथ  में  तलवार है,
कंठ  की  ये  प्यास  कैसी  खून  की   दरकार है ,
सब्र को मत आजमाओ, ये शहर अब सो रहा है!

कहकहे  नादान  हैं  खुशियों  से  कतराते  हैं  ये ,
जब  भी होठों  पर बुलाओ   दूर छुप जाते हैं  ये ,
फिर भी थोड़ा मुस्कराओ,ये शहर अब सो रहा है !

खोखली  दीवार  को  चीखों  से  कोई  भर  गया,
आईना  भी  आदमी  पहचानते   ही   डर   गया,
कौन हो कुछ तो बताओ, ये शहर अब सो रहा है!

खौफ  के  बाज़ार  में  बेची  गयी  है   हर   ख़ुशी ,
ढूंढ़  लो  इस  ढेर  में  शायद  पड़ी  हो  ज़िन्दगी ,
क्या पता पहचान जाओ,ये शहर अब सो रहा है!
                                     -ज्ञानचंद मर्मज्ञ 

शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

हार्दिक शुभकामनायें

     
           राम   बोले   सुनो   मेरे   भाई
           आना  होगा  कई  बार वन  में,
           कैसे मारेंगे  कलियुग का रावन
           वो  छुपा  होगा  हर एक मन में


      सभी इष्ट मित्रों एवं शुभचिंतकों को 
                 विजय दशमी  की 
                 हार्दिक शुभकामनायें......
                                            - ज्ञानचंद मर्मज्ञ